राईट अपर क्वाड्रन्ट पेन Right Upper Quadrant Pain

Authored by Dr Gurvinder Rull, Reviewed by Dr Adrian Bonsall on
This article is for Medical Professionals

Professional Reference articles are designed for health professionals to use. They are written by UK doctors and based on research evidence, UK and European Guidelines. You may find the Right Upper Quadrant Pain article more useful, or one of our other health articles.

राईट अपर क्वाड्रन्ट (आरयूक्यू) में दर्द कई स्थितियों के कारण उत्पन्न हो सकता है। मरीज की आयु, लिंग और सामान्य स्थितियाँ संभावित निदान को प्रभावित करती हैं। इसके साथ ही, इतिहास और परीक्षण भी विशेष निदान पर ध्यान केंद्रित करता हैं। तीव्र या पुरानी शुरुआत, वजन कम होना, पायरेक्सिया, सामान्य बीमारी और मूत्र या आंत्र के लक्षण जैसे संकेत सभी उपचार की ओर इंगित कर सकते हैं। यह निर्धारित करना महत्वपूर्ण है कि क्या acute abdomen (पेट में तीव्र दर्द) है। इससे संबंधित अलग-अलग लेख दिया गया हैं, Left Upper Quadrant Pain (लेफ्ट अपर क्वाड्रन्ट पेन)Abdominal Pain (अब्डोमिनल पेन)Abdominal Pain in Pregnancy (अब्डोमिनल पेन इन प्रेगनेंसी) और Abdominal Pain in Children (अब्डोमिनल पेन इन चिल्ड्रेन)

लक्षण

सबसे पहले दर्द के बारे में पूछताछ करें:

  • मरीज से पूछिए कि उसे दर्द कहाँ हो रहा है। ध्यान दें कि दर्द के स्थान की ओर इशारा करने के लिए मरीज एक अंगुली का उपयोग करता है या संकेत करता है कि दर्द अधिक व्यापक क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • दर्द कब शुरू हुआ, इसके बारे में मरीज को पुष्टि करने के लिए कहें।
  • निर्धारित करें कि दर्द की शुरुआत अचानक हुई थी या धीरे-धीरे हुई थी।
  • निर्धारित करें कि क्या दर्द लगातार हो रहा या रूक-रूक कर हो रहा है।
  • मरीज को दर्द की प्रकृति का वर्णन करने के लिए कहें – छुरा भोकने जैसा, जलता हुआ, पकड़ता हुआ, आदि। शरीर की भाषा और हाथों के उपयोग पर ध्यान दें।
  • मरीज से पूछें कि क्या उत्तेजित करने वाला या राहत दिलाने वाला कोई कारक है।
  • निर्धारित करें कि क्या कोई विकिरण है या नहीं।

मरीज के पिछले मेडिकल इतिहास को नोट करें। व्यवस्थित रूप से जाँच करें। मरीज अपने आप जानकारी दे सकता है जैसे कि पीरेक्सिया, खाँसी या डिज़ुरिया। इस पर चर्चा करें:

  • भूख
  • वजन में कोई परिवर्तन
  • मल
  • मूत्र
  • धूम्रपान करना या शराब पीना
  • दवा

परिवार का इतिहास कारणों को उद्घाटित कर सकता है।

चिन्ह

  • रोगी की सामान्य स्थिति को ध्यान दें - यानि कि क्या उनकी स्थिति अच्छी है, वे सदमे में है, या फिर पैरेक्सियल या डिस्पेनॉईक स्थिति में हैं। ध्यान दें कि क्या वे पीलिया से पीड़ित है।
  • तापमान, नब्ज़ दर और गुणवत्ता, और रक्तचाप को नोट करें।
  • मरीज को पर्याप्त रूप से अपने वस्त्रों को निकाल देना चाहिए और मरीज और जाँचकर्ता दोनों को आरामदायक स्थिति में होना चाहिए। संपूर्ण पेट का एक व्यवस्थित परीक्षण आवश्यक है। पेट के परीक्षण की प्रक्रिया का वर्णन कहीं और किया गया है। अलग आलेख Abdominal Examination (पेट की जाँच)
  • शारीर के अन्य प्रणालियों की पूर्ण जाँच आवश्यक है - उदाहरण के लिए, examination of the respiratory system (श्वसन प्रणाली की जाँच), खासकर यदि निदान कठिन है।

अपरिष्कृत विभेदक निदान बहुत बड़ा है, लेकिन इतिहास की पर्याप्त जानकारी और परीक्षण के बाद यह बहुत छोटा हो जाता है। निम्नलिखित क्रम का उद्देश्य संकेत करना नहीं है:

यकृत और पित्ताशय की थैली का रोग

आंत्र में घाव

हृदय रोग

  • विदारक abdominal aortic aneurysm (एब्डॉमिनल एऑर्टिक एन्यूरिज़्म) का दर्द आमतौर पर पीठ में सबसे अधिक दिखाई देता है और छाती में उत्पन्न हो सकता है और पैर में फैल सकता है। अन्य धमनियों में एन्यूरिज़्म और रक्तस्राव हो सकता है।
  • छाती में दर्द कभी-कभी ऊपरी पेट के दर्द के रूप में उत्पन्न हो सकता है।
  • रक्तसंलयी हृदय विफलता यकृत कैप्सूल में फैल सकता है

गुर्दा संबंधी विकार

श्वसन की बीमारी

फेफड़ों के निचले लोब से दर्द उत्पन्न हो सकता है।

अंत:स्रावी या बहिस्रावी रोग

संक्रमण

  • इससे पहले कि विशिष्ट पुटिकाएं त्वचा पर प्रकट हो Herpes zoster (हरपीज ज़ोस्टर) दर्द के रूप में उपस्थित हो सकता हैं। इसमें गहरी संरचनाओं के बजाए त्वचा अधिक कोमल होती है।
  • लेबारोटमी के बाद या अक्सर लैपरोस्कोपी के बाद सबफ़्रेनिक फोड़ा या गैस भी उत्पन्न होता है। दर्द फिर से कंधे पर शुरू हो सकता है।
  • एक दुर्लभ स्थिति Fitz-Hugh and Curtis syndrome (फ़िटज़-ह्यूग और कर्टिस सिंड्रोम) है।[2] Tजननांग मार्ग में संक्रमण होने के कारण यकृत कैप्सूल में सूजन उत्पन्न होता है। यह pelvic inflammatory disease (श्रोणि सूजन की बीमारी) वाले एक चौथाई मरीजों में होता है। मुख्य रूप से यह तेज प्यूलिकिटिक आरयूक्यू दर्द के रूप में उत्पन्न हो सकता है, लेकिन सल्क्नाइटिस का लक्षण अनुपस्थित हो सकते हैं।

गर्भावस्था

गर्भावस्था के अंतिम तिमाही में अतिरिक्त समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।[3] यकृत एंजाइमों में थोड़ी वृद्धि होने से जीवन को खतरे में डालने वाली बीमारी उत्पन्न हो सकती है, जैसे गर्भावस्था में तीव्र वसायुक्त यकृत (एएफएलपी) या हेमोलीसिस के साथ देर से गर्भावस्था का सिंड्रोम, एलिवरेटेड लिवर एंजाइम लेवल, लो प्लेटलेट गिनती (एचएलएलपी) आदि।

Pre-eclampsia (प्री-एक्लैम्पियासिया), HELLP syndrome (एचएलएलएपी सिंड्रोम) और एएफएलपी एक ऐसे रोग के स्पेक्ट्रम का निर्माण करते हैं जिसमें हल्के लक्षणों से लेकर अनेक अंगों के विफल होने से सम्बंधित जीवन को खतरे में डालने वाली गंभीर बीमारी शामिल हैं। वे गर्भावस्था के दौरान गंभीर यकृत रोग के प्राथमिक कारण होने के रूप में दिखाए गए हैं।

अन्य बातें

  • दर्द को स्पाइनल कॉलम या परिधीय तंत्रिकाओं में नसों से संदर्भित किया जा सकता है जो क्षेत्र में आपूर्ति करते है। रीढ़ की हड्डी में तपेदिक पेट दर्द का एक दुर्लभ कारण है।[4]
  • सहनशील एथलीटों में पेट में बार-बार होने वाला दर्द असामान्य नहीं है और इसका उपचार मुश्किल हो सकता है।[5]
  • बच्चे 'पेट दर्द' के बारे में बहुत ही अचूक हैं और लगभग कुछ ऐसे भी पेश कर सकते हैं जैसे कान, गले और मूत्र की जांच करें मेसेंटेरिक एडेंटाइटिस आमतौर पर हल्के प्योरिक्सिया और शायद अन्य लिम्फैडेनोपैथी के साथ प्रस्तुत करता है।[6]
  • left upper quadrant pain (लेफ्ट अपर क्वाड्रन्ट दर्द) से जुड़ा घाव भी कभी-कभी दूसरी तरफ उपस्थित हो सकता है। सीट्स इनवर्स्स 10,000 में से 1 व्यक्ति में होता है।

यह सूची किसी भी प्रकार से परिपूर्ण नहीं है। पित्त के दर्द के कई अन्य दुर्लभ कारण भी हैं, जिनमें familial Mediterranean fever (फेमिलियल मेडिटरेनीअन फीवर)), टैब्स डॉर्सालिस और कीड़े का दर्द शामिल है। वहाँ Münchhausen's syndrome (मंचहसन के सिंड्रोम) की संभावना भी है।

जाँच-पड़ताल का विकल्प उपरोक्त वर्णित निष्कर्षों पर निर्भर करता है।

  • एफबीसी, ईएसआर और सीआरपी संक्रमण या सूजन की प्रक्रिया का संकेत दे सकता है। रक्तस्राव के कारण एनीमिया हो सकता है। इससे नुक़सानदेहता का संकेत मिलता है।
  • यदि यकृत शामिल है तो असामान्य एलएफटी उत्पन्न होगा और प्राथमिक पित्त सिरोसिस में सकारात्मक एंटी-मिटोकॉन्ड्रियल ऑटोएंटीबॉडीज उपस्थित होगा। यह आमतौर पर पीलिया और खुजली वाले एक प्रौढ़ महिला में उत्पन्न हो सकता है।
  • मूत्र-विश्लेषण करने से पीयेलोफोराइटिस या घाव सहित मूत्र मार्ग में संक्रमण का पता चल सकता है, जो सूक्ष्म रक्तस्राव का कारण बनता है, जैसे कि पत्थर या नुक़सानदेहता।
  • सीएक्सआर और लेटरल व्यू राईट लोअर लोब में घाव को दिखा सकता है। संक्रमण से संकुचन और रोधगलन एक-समान दिखाई देता है। पेट का सामान्य स्थिति, खड़े होने और चित्त लेटे रहने में लिया गया एक्स-रे असामान्य आंत्र के पैटर्न, तरल पदार्थ या गैस या तरल पदार्थ में डूबे हुए डायाफ्राम को दिखा सकता हैं। 70% गुर्दे की पथरी और 30% गैस्ट्रोन रेडियो-अपारदर्शी होता हैं।
  • बृहदान्त्र घावों का पता लगाने के लिए कोलनोस्कोपी या डबल-कॉन्ट्रैक्ट बेरियम एनीमा की आवश्यकता हो सकती है।
  • गुर्दे में पत्थरों की उपस्थिति या फैलाव की जाँच करने के लिए अल्ट्रासाउंड उपयोगी है। यह गैस्ट्रोन का पता लगाने का सबसे अच्छा तरीका है।[7] इसका उपयोग यकृत के बड़े होने की जाँच करने और यह निर्धारित करने के लिए भी किया जा सकता है क्या उसमें एकसमान पैटर्न या विभिन्न अनुकृति घनत्व वाला क्षेत्र हैं।
  • स्पाइनल कॉलम की जांच करने के लिए और हड्डी के घावों का पता लगाने के लिए सीटी स्कैन अच्छा तरीका है; हालांकि, एमआरआई स्कैन तंत्रिका तंत्र के घावों को दिखाने में अधिक उपयोगी है।
  • पेट की सीटी या एमआरआई स्कैन एक घाव का पता लगाने के लिए उपयोगी हो सकता है। अधिक वजन वाले लोगों में, जिनका अल्ट्रासाउंड करना कठिन हो सकता है, एमआरआई स्कैनिंग समान परिणाम देता है।[8] रेडियो-आइसोटोप इमेजिंग यकृत और प्लीहा को दिखा सकता है।
  • गर्भावस्था में, एमआरआई पसंदीदा विकल्प हो सकता है। हालांकि, विशिष्ट मामलों में सीटी स्कैनिंग का तेजी से उपयोग किया जा रहा है - उदाहरण के लिए, यह पथरी के कारण मूत्र मार्ग के संदेहास्पद बाधा को समाप्त करने की सबसे विश्वसनीय विधि है। अध्ययन से यह ज्ञात हुआ है कि सीटी स्कैनिंग में शामिल आयनीकरण विकिरण से भ्रूण को कम जोखिम होता है। यदि एक जोखिम-लाभ विश्लेषण इस तथ्य की पुष्टि करता है कि सीटी करना मरीज के लिए सर्वश्रेष्ठ उपाय है, तो इसे रोका नहीं जाना चाहिए।

अस्वीकरण: यह चिकित्सकों द्वारा समीक्षा किये गए मूल अंग्रेजी लेख का अनुवाद है। हमने सभी लोगों कि जानकारी के लिए जितना संभव हो उतना हमारे लेखों का अनुवाद किया है। तथापि, अनुवाद में कुछ गलतियाँ हो सकती हैं। इस कारण से हम सटीकता, विश्वसनीयता या समय अनिश्चितता की गारंटी नहीं दे सकते। यदि मूल अंग्रेजी लेख और अनुवाद के बीच कोई विरोधाभास है, तो मूल अंग्रेज़ी संस्करण हमेशा प्रबल माना जाएगा । इस आलेख को अंग्रेजी में पढ़ेढ़े

Further reading and references

  1. Zimmerman MA, Cameron AM, Ghobrial RM; Budd-Chiari syndrome. Clin Liver Dis. 2006 May10(2):259-73, viii.

  2. Peter NG, Clark LR, Jaeger JR; Fitz-Hugh-Curtis syndrome: a diagnosis to consider in women with right upper quadrant pain. Cleve Clin J Med. 2004 Mar71(3):233-9.

  3. Steingrub JS; Pregnancy-associated severe liver dysfunction. Crit Care Clin. 2004 Oct20(4):763-76, xi.

  4. Elgendy AY, Mahmoud A, Elgendy IY; Abdominal pain and swelling as an initial presentation of spinal tuberculosis. BMJ Case Rep. 2014 Feb 192014. pii: bcr2013202550. doi: 10.1136/bcr-2013-202550.

  5. Dimeo FC, Peters J, Guderian H; Abdominal pain in long distance runners: case report and analysis of the literature. Br J Sports Med. 2004 Oct38(5):E24.

  6. Kim JS; Acute Abdominal Pain in Children. Pediatr Gastroenterol Hepatol Nutr. 2013 Dec16(4):219-224. Epub 2013 Dec 31.

  7. Miller AH, Pepe PE, Brockman CR, et al; ED ultrasound in hepatobiliary disease. J Emerg Med. 2006 Jan30(1):69-74.

  8. Oh KY, Gilfeather M, Kennedy A, et al; Limited abdominal MRI in the evaluation of acute right upper quadrant pain. Abdom Imaging. 2003 Sep-Oct28(5):643-51.

I have had all over joint pain for nearly ten years. Started in my shoulders but has spread to hips, ankles, wrists, knees, fingers, and even toes. Never really mentioned it to the doctor because the...

jackieMccs88
Health Tools

Feeling unwell?

Assess your symptoms online with our free symptom checker.

Start symptom checker
Listen